Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

इटानगर, ०४ नवम्बर (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश में दूसरा राज्य स्तरीय ओलंपिक खेल-२०१७, का शुभारंभ शुक्रवार को इंडियन ओलंपिक संघ (आईओए) के उपाध्यक्ष विरेन्द्र प्रसाद वैश्य ने किया। इसका उद्घाटन राजधानी क्षेत्र के चिम्पू सांगे लहाडेन स्पोट्र्स अकादमी (एसएलएसए) में हुआ।

आईओए के उपाध्यक्ष ने तीन दिवसीय राज्यस्तरीय ओलंपिक खेल का उद्घाटन करते हुए कहा कि पूर्वोत्तर राज्य अब खेल के क्षेत्र में एक प्रभावशाली स्थान बना रहा है। मणिपुर का उदाहरण देते हुए कहा कि इस राज्य में अब तक १८ अर्जुन पुरस्कार विजेता चुने जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि मणिपुर खेल के क्षेत्र में अब देश में एक प्रमुख स्थान बना चुका है। खेल क्षेत्र में अरुणाचल प्रदेश के खिलाड़ी ी कम नहीं है। लेकिन अरुणाचली खिलाड़ियों को सही और अच्छी सुविधा व कोच नहीं मिल पा रहा है। कम से कम सुविधा के बाद भी अरुणाचली खिलाड़ी कई पदक अपने नाम दर्ज कर देश और राज्य का नाम रोशन कर चुके हैं।आईओए के उपाध्यक्ष ने कहा राज्य में बुनियादी ढांचा और कोच की कमी के बावजूद कम से कम ५० वेटलिफ्टर्स राज्य में उत्पन्न हुए हैं। उन्होंने राज्य सरकार को राज्य में नया बुनियादी ढांचा तैयार कर अरुणाचली खिलाड़ियों की मदद करने की अपील की। इस अवसर पर मणिपुर की सफलता की कहानी को उजागर करते हुए, मणिपुर ओलंपिक संघ के महासचिव सुनील एलंगबाम ने खिलाड़ियों को तैयार करने के लिए बुनियादी ढांचे के विकास और प्रशिक्षित प्रशिक्षकों की नियुक्ति पर बल देने का आह्वान किया। इस खेल में राज्य के लगभग २१ जिलों से लगभग १००० खिलाड़ी भाग ले रहे हैं।