Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

गौहाटी, ३ जून : सेवा भारती, पूर्वांचल के स्वास्थ्य जागरण एवं स्वास्थ्य शिक्षा अभियान के अंतर्गत कोकराझार जिले का सात दिवसीय आवासीय आरोग्य मित्र प्रशिक्षण वर्ग गत २७ मई से २ जून तक असम के बी.टी.ए.ड़ी. की प्रमुख समाजसेवी संस्था ‘रत्नपीठ सेवा समितिङ्क के बहुमुखी ग्राम विकास प्रकल्प गुरूफेला में संपन्न हुआ।

प्रशिक्षण वर्ग में भूटान की सीमा से सटे १८ ग्रामों के २० जनजाति युवक-युवतियों ने भाग लिया। भावनगर, गुजरात के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ.वीरेन नायक ने वर्ग स्थान पर ही निवास करते हुए शिक्षार्थियों को ‘स्वस्थ व्यक्ति, स्वस्थ समाज एवं स्वस्थ राष्ट्रङ्क की शिक्षा प्रदान की। वर्ग में प्रातः ५ बजे से रात्रि ९  बजे तक अलग - अलग सत्रों में योग, प्राणायाम, आसन, शरीर विज्ञान, शुद्ध व पौष्टिक खान-पान,दिनचर्या एवं ऋतुचर्या, स्वच्छता तथा स्वास्थ्य जागरण के अनेक विषयों पर प्रशिक्षण प्रदान किया। बीमारियों के पैदा होने तथा उनसे बचाव के लिए के लिये डॉ. नायक जी ने नशीले पदार्थों एवं व्यसनों के प्रति ग्रामवासियों को जागरूक व शिक्षित करने का आग्रह किया। वर्ग के समापन कार्यक्रम में नवीन प्रशिक्षित आरोग्य मित्रों को संबोधित करते हुए सेवा भारती पूर्वांचल के क्षेत्र संगठन मंत्री श्री नरेश कुमार विकल ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा व्यवस्था की कमी को देखते हुए स्वास्थ्य जागरण स्वास्थ्य शिक्षा अभियान में आरोग्य मित्रों की सक्रिय भूमिका महत्वपूर्ण है। समाज को व्यसनों, मादक द्रव्यों एवं बुराइयों से बचने के लिए समाज को सनातन हिंदु संस्कृति के जीवन मूल्यों के प्रति श्रद्धा एवं विश्वास रखते हुए जीवनयापन करना चाहिए। समाज के प्रत्येक व्यक्ति, बालक-बालिका तथा स्त्री-पुरुषों को सही दिशा में शिक्षित,संस्कारित एवं जागरूक करने की आवश्यकता है। सेवा भारती, पूर्वांचल सहयोगी अनेक सेवा संस्थाओं के द्वारा पूर्वोत्तर के सभी राज्यों में शिक्षा,स्वास्थ्य,स्वावलंबन, समरसता तथा संस्कार के लिए अनेक प्रकार के हजारों सेवा कार्यों का संचालन कर रही है। वर्ग स्थान गुरूफेला में रत्नपीठ सेवा समिति के तत्वावधान में प्रतिदिन सायं के समय निःशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन भी किया गया। जिसमें डॉ.वीरेन नायक जी ने निकटवर्ती ग्रामों के ८०० रोगियों क स्वास्थ्य परीक्षण एवं उपचार तथा निःशुल्क दवाई वितरण किया। प्रशिक्षण वर्ग में शिक्षार्थियों एवं अतिथियों के आवास, भोजन, जलपान आदि के लिए स्थानीय समाजसेवी बंधु- भगिनी की एक प्रबंध समिति बनाई गई थी। जिसमें शांतनु नायक, मिलन पाल, विधान चंद्र बर्मन, अजय सोनार, अमीर मंडल, अमरदीप साहू, कँसाई ब्रह्म, एंडिड्ढला ब्रह्म, मंगल मार्डी, प्रदीप टुड़ू आदि की प्रमुख भुमिका रही। अंत में  शिक्षार्थियों को प्राथमिक औषधियों से युक्त एक डिब्बा प्रदान किया गया।