Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

गुवाहाटी (स‘ा.एजें) ६ नवंबर : असम के होजई से भाजपा विधायक शिलादित्य देब ने फिर विवादित बयान दिया है।

शिलादित्य देब ने दावा किया है कि असम विधानसभा में कम से कम तीन बांग्लादेशी मुस्लिम विधायक हैं। शिलादित्य देब अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाते हैं। वह कुछ दिनों से विवादित और सांप्रदायिक भावनाएं भडक़ाने वाले बयान दे रहे हैं। देब ने कहा कि असम विधानसभा के स्पीकर के बाईं ओर तीन बांग्लादेशी मुस्लिम विधायक बैठते हैं। उन्होंने कहा कि २५ में से ये तीन विधायक या तो कांग्रेस या एआईयूडीएफ से हो सकते हैं। विधानसभा में १४ कांग्रेस विधायक मुस्लिम हैं जबकि एआईयूडीफ से एक को छोडक़र शेष सभी विधायक मुस्लिम हैं। देब ने कहा कि भाजपा में भी कई बांग्लादेशी हैं। भाजपा राज्य व केन्द्र में सत्ता में है। सिर्फ इसका फायदा उठाने के लिए ये बांग्लादेशी मुस्लिम भाजपा में आ गए। देब ने दावा किया कि मुस्लिम बांग्लादेशी हमेशा मौके तलाशते रहते हैं और वे हर उस दल या संगठन में शामिल हो जाते हैं जो उन्हें अपने लिए सबसे फायदेमंद लगता है। 

करीमजंग के एक व्यक्ति ने शुक्रवार को देब के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। शिकायत दर्ज कराने वाले व्यक्ति का आरोप है कि देब अपने बयानों से सांप्रदायिकता फैला रहे हैं। करीमजंग के कुनापारा के निवासी हिफजुर रहमान ने करीमजंग में मुख्य न्यायिक मजिस्टड्ढेट की कोर्ट में शिलादित्य देब के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।शिकायतकर्ता के वकील टी.रहमान पाटिकार ने कहा कि देब पिछले कुछ दिनों से अपने बयानों के जरिए लोगों के बीच सांप्रदायिक तनाव उत्पन्न करने की कोशिश कर रहे हैं। उनके बयानों से असम में इस्लाम को फॉलो करने वाले लोगों की सांप्रदायिक भावनाएं आहत हुई है। देब पिछले कुछ दिनों से धर्म के आधार पर लोगों को बांटने की कोशिश कर रहे हैं। देब के खिलाफ आईपीसी की धारा १९५-ए, १९८ और ५०५ ए के तहत केस दर्ज किया गया है। मामले पर सुनवाई १० नवंबर को होगी। आपको बता दें कि भाजपा नेतृत्व पहले ही कह चुका है कि पिछले कुछ दिनों में देब ने मीडिया के समक्ष जो बयान दिए हैं उनका पार्टी से कोई ताल्लुक नहीं है। न ही उनका पार्टी की विचारधारा से संबंध है। देब ने जो भी विचार रखे हैं वह उनकी निजी राय है। पार्टी ने देब को इस तरह के और बयान नहीं देने के लिए आगाह किया है। पार्टी का कहना है कि अगर देब ने आगे भी इसी तरह के बयान दिए तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। भाजपा के अल्पसंख्यक मोर्चा के नेता सैयद मोमिनुल अवल ने दावा किया है कि पार्टी के बारे में सही जानकारी नहीं होने के कारण देब ने सभी बयान दिए हैं। उन्हें इस तरह के बयान नहीं देना चाहिए। अल्पसंख्यक मोर्चा पहले ही मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल को इस बारे में जानकारी दे चुका है। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा ने देब के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। शिलादित्य देब ने कहा था कि राज्य के ९७ फीसदी मुस्लिम बांग्लादेश से आए प्रवासी हैं और उनके एग्रेशन के कारण राज्य के इंडिजिनस लोगों को अपने गांवों को छोडक़र जाना पड़ा है। देब ने कहा था कि राज्य की मुस्लिम आबादी में से सिर्फ ३ फीसदी असम से हैं, शेष ९७ फीसदी बांग्लादेश से आए प्रवासी हैं।