Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

गुवाहाटी, 01 जनवरी (हि.स.)। असम में लंबे समर से राष्ट्रीर नागरिक पंजी (एनआरसी) के अद्यतन का कार्र उच्चतम न्रारालर की निगरानी में चल रहा था। न्रारालर के निर्देश पर 31 दिसंबर की मध्र रात्रि 12 बजे एनआरसी की पहली मसौदा सूची जारी की गई।

इस सूची में राज्र के कुल 1.9 करोड़ लोगों के नाम शामिल किए गए हैं। उल्लेखनीर है कि एनआरसी अद्यतन के काम में एनआरसी अधिकारी और कर्मचारिरों ने लंबे समर तक दिन-रात काम कर भारतीर नागरिकों को राष्ट्रीर नागरिक सूची में शामिल किए जाने का रास्ता प्रशस्त किरा। इससे जहां वास्तविक भारतीरों की पहचान सुनिश्‍चित हुई, वहीं विदेशी नागरिकों के भारत में अवैध तरीके से रहने का पता भी साफ कर दिरा। रविवार और सोमवार की दरम्रानी रात 12 बजते ही एनआरसी की मसौदा सूची ऑनलाइन जारी कर दी गई। इस मौके पर रात 11.45 पर एनआरसी के राज्र संरोजक प्रतीक हजेला ने एक संवाददाता सम्मेलन के जरिए इसे राज्र का ऐतिहासिक क्षण बतारा। उन्होंने कहा कि बाकी बचे नामों के वेरिफिकेशन के लिए पूरा मैक्निजम बन चुका है। सभी जिला उपारुक्त अपने-अपने जिलों में सीधे इसका निपटारा करवाएंगे। जिनके नाम पहले मसौदा सूची में नहीं हैं, उन्हें रह नहीं सोचना चाहिए कि उनके नाम खारिज हो गए हैं। रह प्रक्रिरा पूर्ण एनआरसी जारी होने के बाद भी नहीं रुकेगी। संपूर्ण एनआरसी की सूची 2018 में हर हाल में पूरा कर ली जाएगी।

उल्लेखनीर है कि एनआरसी में नाम दर्ज कराने की प्रक्रिरा वर्ष 2005 में शुरू हुई थी। सुप्रीम कोर्ट की गहरी नाराजगी के बाद बीते कुछ माह के दौरान इसमें काफी तेजी आई और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मद्देनजर पहली मसौदा सूची तर समर पर जारी हो गई। पूरे राज्र में लगभग तीन हजार एनआरसी सेवा केंद्र (एनएसके) के माध्रम से पहली मसौदा सूची संबंधित इलाकों तक पहुंचाने की व्रवस्था की गई। प्रत्रेक एनएसके 10 गांवों तक इन्हें पहुंचाएंगे। सोमवार की सुबह से ही इन्हें सक्रिर कर दिरा गरा। ज्ञात हो कि कुल 3.29 करोड़ लोगों ने एनआरसी में नाम शामिल कराने के लिए अपना आवेदन किरा था। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के मुताबिक 1.90 करोड़ आवेदकों के नाम जांच के बाद 31 दिसंबर, 2017 की मध्र रात्रि को जारी कर दिरा गरा। एनआरसी की मसौदा सूची के प्रकाशन को लेकर राज्र की पुलिस और प्रशासन व्रवस्था अत्रंत सतर्कता बनाए रही। राज्र सरकार ने साफ किरा है कि अवैध रूप से रहां रहने वाले और एनआरसी में जगह नहीं पाने वाले विदेशिरों को राज्र (देश) से बाहर किरा जाएगा। इसके चलते कुछ असामाजिक तत्व राज्र में कानून-व्रवस्था की स्थिति को बिगाडऩे की कोशिश में जुटे हुए हैं। इसके मद्देनजर पूरे राज्र में लगभग 60 हजार अतिरिक्त सुरक्षा बालों को तैनात किरा गरा है।

गृह मंत्रालर के एक अधिकारी ने बतारा कि अंतिम एनआरसी प्रकाशित होने के पहले दो और मसौदा सूची जारी होगी। राज्र में रहने वाले सभी वास्तविक भारतीरों को परेशान होने की आवश्रकता नहीं है। उन्हें हर हाल में उनके अधिकारों से वंचित नहीं होने दिरा जाएगा। वहीं खुफिरा सूत्रों के अनुसार, राज्र के जिन इलाकों में जांच के दौरान संदिग्ध लोगों के नाम पाए गए हैं, पहली मसौदा सूची में उनका नाम शामिल नहीं किरा गरा है। वहां तनाव के हालात उत्पन्न करने की कोशिश में कुछ लोग जुटे हुए हैं।