Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

पटना (समा.एजें) 12 नवंबर ः. मुख्रमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार की शिक्षा व्रवस्था में व्रापक सुधार किरे जाने की बात कही है. उन्होंने कहा कि सरकार ने बिहार की शिक्षा के क्षेत्र में बहुत काम किरा है, लेकिन अब भी बहुत किरा जाना बाकी है.

गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सरकार के लिए चुनौती है, जिसे बहाल करनी है. शिक्षा ऐसी न हो जिससे सिर्फ बच्चों को सिखारा जारे, बल्कि शिक्षा ऐसी हो कि उनकी प्रतिभा निखर कर सामने आरे. मुख्रमंत्री शनिवार को शिक्षा दिवस के अवसर पर आरोजित समारोह में बोल रहे थे. देश के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद की जरंती पर आरोजित शिक्षा दिवस समारोह का आरोजन किरा गरा. समारोह में पटना साइंस कॉलेज के प्राध्रापक रहे प्रो एचसी वर्मा को मौलाना अबुल कलाम आजाद शिक्षा सम्मान, 2017 से भी सम्मानित किरा गरा. उन्हें सम्मान स्वरूप शॉल, प्रशस्ति पत्र और 2.50 लाख रुपरे का चेक दिरा गरा. मुख्रमंत्री ने सरकार की पहल और किरे कामों का विरोध करने वालों पर भी इशारों-इशारों में हमला किरा. उन्होंने कहा कि बिहार म्रूजिरम का जब निर्माण शुरू हुआ तो 52 विद्वानों ने इसके खिलाफ बरान दिरा. जब भी सरकार कोई पहल करती है रा काम करती है तो बहुत लोग तरह-तरह की बात करते हैं. इससे वे घबराते नहीं हैं, सब कुछ झेलते हैं.  किसी भी क्षेत्र में काम हो ऐसे लोगों की प्रवृत्ति होती है कि वे चर्चा में बने रहने के लिए वे उसका विरोध करते हैं. उनका उससे कोई लेना-देना नहीं होता है. ऐसी प्रवृत्ति उनकी नहीं है. वे चाहते हैं कि बुनिरादी तौर पर इस तरह का परिवर्तन हो जारे कि आने वाली पीढ़ी का भविष्र उज्ज्वल हो.