Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

नई दिल्ली (समा.एजें) २ जून :. सेंटड्ढल बोर्ड ऑफ सेकंडड्ढी एजुकेशन (सीबीएसई) ने इस बार १२वीं के छात्रों को नंबर बढ़ाकर देने में दरिया दिली दिखाई है. छात्रों को ११ नंबर तक अतिरिक्त दिए गए हैं.

सीबीएसई ने इस साल से अपनी नंबर बढ़ाकर देने यानी मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म करने का फैसला लिया था. मगर, कोर्ट के निर्देश के बाद सीबीएसई को मॉडरेशन पॉलिसी को जारी रखना पड़ा और उसने लिमिट से आगे बढक़र नंबर बांट दिए. अकाउंटेंसी में छात्रों को ११ नंबर, गणित में १० और भौतिकी एवं रसायन में छात्रों को ८-८ नंबर बढ़ाकर दिए गए हैं. इसके अलावा सवालों के कठिनाई के स्तर और अन्य त्रुटियों के लिए अलग से नंबर बढ़ाकर दिए गए हैं. सीबीएसई ने उन छात्रों को भी १० नंबर ग्रेस माक्र्स के तौर पर दिए हैं, जो पास होने लायक अंक भी नहीं ला सके थे. इस साल मॉडरेशन पॉलिसी के कारण सीबीएसई के १२वीं क्लास का रिजल्ट भी देरी से जारी हुआ है. एक वकील और एक अभिभावक ने मॉडरेशन पॉलिसी को खत्म करने के सीबीएसई के फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दी थी. हाई कोर्ट ने अभिभावक के पक्ष में फैसला सुनाते हुए सीबीएसई से मॉडरेशन पॉलिसी को जारी रखने का निर्देश दिया था. सीबीएसई के पूर्व अध्यक्ष अशोक के गांगुली ने कहा कि प्रश्नपत्र के विभिन्न सेटों के बीच मीन माक्र्स में तरह की परिवर्तनशीलता फस्र्ट प्लेस में नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर प्रक्रिया ठीक से कर ली गई है तो माक्र्स में मॉडरेशन नहीं किया जा सकता है. इससे पहले, एक से तीन अंकों का नियमन पर्याप्त था.