Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

येरूशलम.(समा.एजें) ५ जुलाई : नरेंद्र मोदी और इज़रायल में उनके समकक्ष बेंजामिन नेतन्याहू ने बुधवार (५ जुलाई) को एक साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में दोनों देशों के बीच संबंधों की मजबूती पर जोर दिया.

एक तरफ जहां नेतन्याहू ने कहा कि दोनों देश (भारत और इज़रायल) की दोस्ती करोड़ों लोगों की ज़िंदगी बदल सकती है तो वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकतंत्र में दोनों मुल्कों की आस्था को रेखांकित किया.नेतन्याहू और मोदी और दोनों ने ही अपने साझा बयान में आतंकवाद को भी निशाने पर लिया. दोनों ही शीर्ष नेताओं ने यह स्वीकार किया कि भारत व इज़रायल को आतंकवाद से ख़तरा है और साथ मिलकर ही इससे (आतंकवाद से) निपटा जा सकता है. इसके साथ ही नरेंद्र मोदी ने इस बात का ख़ासतौर पर जक़्रि किया कि भारत और इज़रायल जटिल हालात में रहते हैं और दुनिया में शांति- स्थिरता के लिए दोनों देशों (भारत-इज़रायल) में दोस्ती ज़रूरी है.भारत और इजराइल के बीच कृषि और स्पेस समेत सात समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं। जिन सात समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं उनमें औद्योगिक विकास, जल संरक्षण, जल प्रबंधन, कृषि, परमाणु घड़ी, जीओ-लियो ऑप्टिकल लिंक और छोटे उपग्रहों को लेकर समझौते हुए हैं। भारत और इजरायल ने औद्योगिक शोध एवं विकास और नवोन्मेष के लिए चार करोड़ अमेरिकी डॉलर का कोष स्थापित करने पर सहमति जताई है।

साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस के महत्वपूर्ण अंश: - इज़रायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, हम एक इतिहास बना रहे हैं.  दोनों देश कई क्षेत्रों में मिलकर बेमिसाल काम कर सकते हैं.

 आतंकवाद दोनों देशों के लिए चुनौती. हमारी दोस्ती करोड़ों लोगों की ज़िंदगी बदलेगी. आप और मैं दुनिया बदल सकते हैं. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम दोनों (भारत और इज़रायल) लोकतंत्र में विश्वास रखते हैं. मोदी ने कहा हम दोनों दुनिया में शांति और स्थिरता के लिए भारत और इज़रायल में दोस्ती ज़रूरी.  भारत और इज़रायल जटिल हालात में रहते हैं. हमारे रास्ते अलग, लेकिन लोकतंत्र में विश्वास रखते हैं.  दुनिया में शांति और स्थिरता के लिए भारत और इज़रायल की दोस्ती काम आएगी.  भारत और इज़रायल दोनों देशों को आतंकवाद से ख़तरा.  मोदी ने कहा, हम अपने संबंधों को नए आयाम देंगे। हायफ़ा में भारतीय सैनिकों ने बड़ी कुर्बानी दी. भारत में इज़रायली पर्यटकों की तादाद बढ़ी है.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को इज़रायल के राष्ट्रपति रूवन रिवलिन से भेंट कर द्विपक्षीय संबंधों को सुदृढ़ बनाने के उपायों और इस्राइल की अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के ङ्कमेक इन इंडियाङ्क योजना में योगदान पर चर्चा की. इज़रायल को भारत का सच्चा मित्र बनाते हुए मोदी ने रिवलिन की पिछले वर्ष नवंबर में हुई भारत यात्रा को याद किया. दोनों देशों के बीच संबंधों की प्रशंसा करते हुए, मोदी ने कहा कि वर्तमान में भारत इस्राइल के साथ, इज़रायल के लिए है.तीन दिवसीय यात्रा पर मंगलवार (४ जुलाई) को तेल-अवीव पहुंचे मोदी ने यहां रिवलिन से उनके आवास पर भेंट की. उन्होंने ट्वीट किया, ङ्कइस्राइल के राष्ट्रपति ने मेरा पूरी गर्मजोशी से स्वागत किया, उन्होंने प्रोटोकॉल तोड़ दिया. यह भारत के लोगों के प्रति सम्मान का संकेत है.ङ्क राष्ट्रपति आवास की अतिथि पुस्तिका में मोदी ने लिखा, ङ्कराष्ट्रपति रिवलिन से आज फिर भेंट करना बहुत अच्छा रहा. मैं पिछले नवंबर में हुई उनकी भारत यात्रा को याद कर रहा हूं, जब उन्होंने अपने सौम्य व्यवहार और भारत के साथ कुछ अच्छा करने की इच्छा से हमारा मन मोह लिया था.ङ्क

राष्ट्रपति ने कहा, ङ्कहममे बहुत समानताएं हैं और हम काफी कुछ एक समान कर रहे हैं. भारत में निर्माण करने वाले साझेदारों की मदद को लेकर हम आपके विचार को पूरी तरह समझते हैं.ङ्क उन्होंने कहा, ङ्कङ्क..हम ङ्कमेक इन इंडियाङ्क की आपकी महत्वकांक्षा को पूरा करने के लिए काफी कुछ कर रहे हैं.ङ्कङ्क उन्होंने कहा, ङ्कहमने कुछ ही परियोजनाएं बतायी हैं, जो हम भारत के साथ कर सकते हैं और मुझे मालूम हैं कि आपने इसे स्वीकार किया है और उसकी प्रशंसा की है.ङ्क रिवलिन ने कहा कि भारत और इज़रायल के विश्वविद्यालयों तथा उद्योगों के बीच सहयोग की संभावनाएं हैं. उन्होंने कहा, इज़रायल के लोग भारत में निवेश और साथ मिलकर काम करने वाली परियोजनाओं का रास्ता तलाश रहे हैं