Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

नई दिल्ली (समा.एजें) ६ जुलाई : सिक्किम गतिरोध पर चीन के आगे नहीं झुकने की बात साफ तौर पर कहते हुए भारत ने कहा है कि कूटनीतिक बातचीत के परिणामस्वरूप ही सिक्किम-भूटान-तिब्बत तिराहे के नजदीक पैदा हुए सीमा-गतिरोध का हल निकलेगा।

बुधवार को रक्षा राज्य मंत्री सुभाष भाम्रे ने कहा, ङ्कयह मुद्दा या संकट कूटनीतिक स्तर पर हल किया जाना चाहिए। यह कूटनीतिक रूप से हल हो सकता है, जैसा हम चाहते हैं।ङ्क भाम्रे ने कहा, ङ्कचीन के सैनिकों को वहीं रहना चाहिए जहां वे पहले थे। वे भूटान के इलाके में घुस आए हैं। उन्हें भूटान के इलाके में नहीं आना चाहिए। यह हमारी सुरक्षा का सवाल है और यही हमारा स्टैंड है।ङ्कभाम्रे ने भूटान द्वारा चीन पर लगाए गए आरोप का भी जिक्र किया जिसमें उसने कहा था कि चीन ने उसके (भूटान) इलाके में सडक़ बनाकर मौजूदा स्थिति को बदलने की एकतरफा कोशिश की। भाम्रे ने कहा, ङ्कसमझें कि भूटान क्या कह रहा है। यह विवाद केवल कूटनीतिक स्तर पर हल हो सकता है। हम बैठकर सभी समस्याओं को दूर कर सकते हैं।ङ्क भाम्रे का यह बयान चीनी राजदूत लू झाओहुई के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने दोनों देशों के बीच पैदा हुई ङ्कगंभीरङ्क स्थिति के चलते भारत को ङ्कबिना किसी शर्तङ्क के अपने सैनिकों को वापस बुलाने की बात कही थी।

मौजूदा हालात पर एक इंटरव्यू में चीन के राजदूत ने कहा था, ङ्कस्थिति बहुत ही गंभीर है और इससे मैं बहुत ज्यादा चिंतित हूं। पहली बार भारतीय सैनिकों ने सीमा को पार कर चीन के इलाके में प्रवेश किया है जिससे दोनों देशों के सेनाओं के बीच तनातनी बढ़ गई है। १९ दिन बीत जाने के बाद भी हालात सामान्य नहीं हुए हैं।ङ्क लू ने यह भी कहा कि भारत को सीमा को लेकर चीन और भूटान के बीच चल रही बातचीत में दखल देने की कोई जरूरत नहीं है। बता दें कि डोकलाम में चीन द्वारा सडक़ बनाने की कोशिश के बाद भारत और चीन के सैनिकों के बीच कई दिनों से तनातनी चल रही है। डोका ला उस इलाके का भारतीय नाम है जिसे भूटान डोकलाम कहता है। चीन का दावा है कि यह उसके डोंगलांग इलाके का हिस्सा है। विवाद को हल करने के लिए चीन और भूटान के बीच बातचीत चल रही है। भूटान के चीन के साथ राजनयिक रिश्ते नहीं है इसलिए भारत ही उसे सैन्य के साथ-साथ राजनयिक समर्थन देता है।