Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

नई दिल्ली (समा.एजें) १४ जुलाई : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भारत सरकार दुनिया की सभी सरकारों में सबसे ज़्यादा भरोसेमंद है...

ऑर्गेनाइज़ेशन फॉर इकोनॉमिक को-ऑपरेशन एंड डेवलपमेंट (ओईसीडी) की ताजातरीन रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के नागरिक अपनी सरकार पर भरोसा करते हैं, और यह देश ङ्कसरकार पर भरोसे के मामले में दुनियाभर में शीर्ष पर है.दुनियाभर की सरकारों को अपने-अपने देश के आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय हालात को समझने में मदद देने वाले अंतरराष्ट्रीय संगठन ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ७३ फीसदी भारतीयों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार पर विश्वास है, जो दुनिया के प्रत्येक अन्य देश से ज़्यादा है...। वर्ष २०१४ में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को ऐतिहासिक जनादेश प्राप्त हुआ था, और तब से नरेंद्र मोदी सरकार सामाजिक सेक्टर के साथ-साथ आर्थिक क्षेत्र में भी कई नई नीतियां लागू की हैं. अप्रत्यक्ष कराधान के मामले में अनेक केंद्रीय तथा राज्यीय करों को खत्म कर एक गुड्स एंड सर्विसेज़ टैक्स, यानी जीएसटी लागू किया जाना नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों में सबसे बड़ा बताया जाता है. इसके अलावा पिछले साल ८ नवंबर को की गई नोटबंदी, जिसके तहत उस समय तक प्रचलित ५०० तथा १,००० रुपये के नोटों को पूरी तरह बंद कर दिया गया था, को सबसे क्रांतिकारी फैसले के रूप में देखा गया... यह फैसला काले धन पर नकेल डालने और टैक्स की चोरी पर लगाम लगाने के उद्देश्य से उठाया गया था... इस कदम से देश में ङ्कडिजिटल इंडियाङ्क की तरफ बढ़ने में काफी मदद मिली। प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो के नेतृत्व वाली कनाडा सरकार, जिसे ६२ प्रतिशत नागरिकों का समर्थन हासिल हुआ, को लिस्ट में दूसरा स्थान हासिल हुआ है, जबकि तुर्की में ५८ फीसदी नागरिकों के समर्थन की बदौलत राष्ट्रपति रिसेप तय्यप एरदोगान की सरकार को दुनियाभर में तीसरा पायदान हासिल हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार, यूरोपियन यूनियन से बाहर निकलने जा रहे यूनाइटेड किंगडम में ४१ फीसदी लोग प्रधानमंत्री थेरेसा मे की सरकार के साथ है, जबकि राष्ट्रपति डोनाल्ड टड्ढंप के नेतृत्व में सिर्फ ३० प्रतिशत अमेरिकावासियों ने विश्वास व्यक्त किया है.़यूरोप में फैले माइग्रेशन संकट के साथ-साथ नाकाम होती अर्थव्यवस्था और कई बार हुए चुनाव से जूझते रहे यूनान (ग्रीस) को सूची में आखिरी स्थान प्राप्त हुआ है, और ग्रीस सरकार को कुल १३ फीसदी नागरिकों का समर्थन हासिल है।