Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

नई दिल्ली (स‘ा.एजें) ३ नवंबर : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के करीबी रहे पूर्व रेलमंत्री मुकुल रॉय बीजेपी में शामिल हो गए हैं।

शुक्रवार को दिल्ली में उन्होंने केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद की मौजूदगी में भगवा पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इसके बाद उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष से भी मुलाकात की। गौरतलब है कि बीजेपी पश्चिम बंगाल में अपनी जड़ें जमाने की कोशिश कर रही है और उसे वहां कुछ बड़े चेहरों की तलाश है। मुकुल रॉय ने कहा कि बीजेपी की वजह से ही तृणमूल कांग्रेस बंगाल में स्थापित हो सकी और सत्ता तक पहुंची। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में काम करने के मौके को अपने लिए गौरव बताते हुए रॉय ने कहा, ङ्क१९९७ में टीएमसी का गठन हुआ और १९९८ में लोकसभा चुनाव पार्टी बीजेपी की मदद से लड़ी। इसके बाद टीएमसी एनडीए का हिस्सा रही। बीजेपी के बिना टीएमसी स्थापित नहीं हुई होती।ङ्क उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी कम्युनल नहीं सेक्युलर पार्टी है और जल्द पश्चिम बंगाल की सत्ता पर काबिज होगी।  कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मुकुल रॉय सीपीएम के अत्याचार और आतंक के खिलाफ मजबूती से लड़े। वह टीएमसी के संस्थापकों में से एक हैं और उनके बीजेपी में आने से पार्टी को फायदा होगा। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मुकल रॉय ने बिना कोई शर्त बीजेपी में शामिल होने की इच्छा जताई थी। कभी ममता बनर्जी के करीबी रहे मुकुल रॉय ने दुर्गा पूजा के दौरान पार्टी छोड़ने का ऐलान किया था। मुकुल रॉय की इस घोषणा के बाद तृणमूल कांग्रेस ने उन्हें छह साल के लिए पार्टी से निलंबित कर दिया। कभी ममता बनर्जी के करीबी रहे मुकुल रॉय ने दुर्गा पूजा के दौरान पार्टी छोड़ने का ऐलान किया था। मुकुल रॉय की इस घोषणा के बाद तृणमूल कांग्रेस ने उन्हें छह साल के लिए पार्टी से निलंबित कर दिया। ममता बनर्जी के बाद मुकुल रॉय पार्टी के सबसे बड़े चेहरे थे लेकिन पिछले कुछ समय से दोनों नेताओं के संबंध ठीक नहीं चल रहे थे। मुकुल का नाम शारदा चिटफंड घोटाले में आ चुका है। बताया जाता है कि शुरुआत में आरएसएस को बीजेपी में उनकी ऐंटड्ढी पर ऐतराज था।