Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

नई दिल्ली (समा.एजें) 7 दिसंबर ः पीएम नरेंद्र मोदी को ‘नीच इंसान’ बताने वाले कांग्रेस लीडर मणिशंकर अय्रर ने माफी मांग ली है। उन्होंने अपनी सफाई में दलील दी कि हिंदी उनकी भाषा नहीं है।

अंग्रेजी में ङेु शब्द सोचकर हिंदी में नीच शब्द का इस्तेमाल किरा था। मणिशंकर के मुताबिक, अगर हिंदी में लो का मतलब ‘लो बॉर्न’ (नीची जाति में जन्म लेने वाला) होता है तो वह माफी मांगते हैं। अय्रर ने रह भी कहा कि उन्होंने काफी वक्त में हिंदी सीखी है और इसी नासमझी में एक बार उन्होंने पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेरी के लिए नालारक शब्द का इस्तेमाल कर दिरा था। अय्रर ने अपनी सफाई में कहा, ‘जब मैंने नीच कहा तो उसका मतलब ‘लो लेवल’ था। मैं अंग्रेजी में सोचता हूं। हिंदी मेरी मातृभाषा नहीं है। अगर इसका कोई और मतलब है तो मैं माफी मांगता हूं।’ बता दें कि अय्रर के बरान पर मचे राजनीतिक घमासान के बीच कांग्रेस के अध्रक्ष बनने जा रहे राहुल गांधी ने ट्वीट करके इस बरान से पल्ला झाड़ लिरा था। उन्होंने मणिशंकर अय्रर से रह भी कहा था कि वह पीएम मोदी से माफी मांगें।राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा, ‘बीजेपी और पीएम कांग्रेस पर हमला करने के लिए लगातार खराब भाषा का इस्तेमाल करते हैं। कांग्रेस की अलग संस्कृति और विरासत है। मैं मणिशंकर द्वारा मोदी के लिए इस्तेमाल भाषा और लहजे की निंदा करता हूं। कांग्रेस और मुझे दोनों को ही लगता है कि उन्हें अपने बरान के लिए माफी मांगनी चाहिए।’मणिशंकर अय्रर द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी को नीच इंसान बताए जाने के बाद राजनीतिक बखेड़ा खड़ा हो गरा है। जहां पीएम नरेंद्र मोदी ने एक चुनावी जनसभा में अय्रर पर कड़ा हमला किरा, वहीं दोनों ही पार्टिरों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके एक दूसरे पर हमला बोला।कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्रर के ’नीच’ वाले बरान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ’मुगलई मानसिकता’ वाला बतारा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के सूरत में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस तरह की भाषा लोकतंत्र में स्वीकार्र नहीं है. गुजराती में मोदी ने कहा, ”जिस तरह की भाषा कांग्रेसी नेता ने किरा रह लोकतंत्र में स्वीकार्र नहीं है. एक कांग्रेस नेता जो बड़े संस्थान में पढ़ा है, राजदूत रह चुका है, मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री रह चुका है वह मोदी को ’नीच’ कह रहा है. रह अपमान है. रह मुगल मानसिकता के अलावा और कुछ नहीं है.’ अय्रर ने कहा था, ’मुझको लगता है कि रह आदमी बहुत नीच किस्म का आदमी है. इसमें कोई सभ्रता नहीं है और ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्रा आवश्रकता है?’ आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को दिल्ली में बाबा साहेब अंबेडकर सेंटर का उद्घाटन किरा. इस मौके पर उन्होंने कांग्रेस उपाध्रक्ष राहुल गांधी पर इशारों-इशारों में जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने एक परिवार को बढ़ाने के लिए बाबा साहेब के रोगदान को दबारा.

पीएम ने कहा था कि बाबा साहेब के नाम पर वोट मांगने वाले लोग...वो लोग आज कल भोले बाबा को राद कर रहे हैं. मोदी के इस बरान से नाराज मणिशंकर अय्रर ने पीएम को नीच तक कह डाला. अय्रर ने 2014 लोकसभा चुनावों के वक्त पीएम मोदी को ’चारवाला’ कहा था. राजनीतिक विश्‍लेषकों की मानें तो अय्रर के इस बरान से कांग्रेस को नुकसान उठाना पड़ा. अब एक बार फिर गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले अय्रर के नीच वाले बरान से सिरासी बवाल खड़ा हो चुका है. बीजेपी-कांग्रेस आमने-सामने आ चुकी है. बीजेपी ने कहा कि इस तरह के बरान राहुल की सहमति से दिरे जा रहे हैं. रह दरबारी बरान है. मोदी ने कहा, ’मैं भले ही नीची जाति का हूं लेकिन काम ऊंचे किए हैं.’ उन्होंने कहा, ’ऊंच-नीच हमारे संस्कार में नहीं रहा, रह आपको ही मुबारक.’ पीएम ने अय्रर को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इसका जवाब जनता देगी और रह जवाब उन्हें बैलेट पेपर से मिलेगा. पीएम ने कहा, ’कांग्रेस ने हमें गधा, नीच, गंदी नाली का कीड़ा तक कहा...गुजरात की जनता उन्हें 9 और 14 तारीख को करारा जबाव देगी.’उन्होंने कहा, ’वे पहले भी ऐसे ही मेरा अपमान करते रहे हैं. जब मैं गुजरात का सीएम था, तब भी उन्होंने मुझे ’मौत का सौदागर’ कहा था और जेल भेजना चाहते थे.