Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

नई दिल्ली (समा.एजें) 17 मार्च ः हमारी सेना देश की सुरक्षा में जुटी है और जरूरत पड़ी तो हम सीमा से बाहर निकलकर अपने देश की रक्षा करेंगे.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने न्रूज 18 के राइजिंग इंडिरा समित कार्रक्रम में रे बात कहीं. सिंह ने आतंकवाद, नक्सलवाद जैसे मुद्दे पर खुलकर बात की. राजनाथ सिंह ने कहा कि आतंकवाद के मुद्दे पर पहले के प्रधानमंत्रिरों ने भी काम किए हैं लेकिन हमारे पीएम ने अंतरराष्ट्रीर देशों को इस समस्रा के खिलाफ एकजुट करने में सफलता हासिल की है. सिंह ने आगे कहा, ’मैं रह नहीं कहना चाहूंगा कि जो भी कामराबी हमें हासिल हुई है वह केवल हमारे प्ररासों से हुई है. पहले की सरकारों ने भी काम किए हैं. नक्सलवाद जो हमारी आंतरिक सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बना था, उस पर हमें बड़ी कामराबी हासिल हुई है. मैं रह नहीं कह रहा कि वारदात नहीं हो रही हैं, लेकिन नक्सली घटनाओं में काफी कमी आई है. पड़ोसी देशों के साथ रिश्तों पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- ’हम चाहते हैं कि पड़ोसिरों से अपने रिश्ते बनाकर रखें. वाजपेरी कहा करते थे कि दोस्त बदल जाते हैं, लेकिन पड़ोसी नहीं बदलते. इसलिए अपने पड़ोसिरों के साथ अच्छे संबंध बनाकर रखने चाहिए.’पाकिस्तान द्वारा आतंकी हाफिज सईद को संरक्षण दिए जाने के मुद्दे पर राजनाथ ने कहा कि पाकिस्तान हाफिज सईद को राजनीतिक संरक्षण दे रहा है, वह चुनाव लड़ेगा वहां की संसद में बैठेगा. पाकिस्तान हक्कानी नेटवर्क को पालता है. इन आतंकी संगठनों ने कितने लोगों की हत्रा की है. भारत पाकिस्तान के साथ दोस्ताना संबंध रखना चाहता है, लेकिन पाकिस्तान इसके लिए इच्छुक नहीं है. कश्मीर के मुद्दे पर बात करते हुए गृहमंत्री ने कहा, ‘कश्मीर के बच्चे हमारे बच्चे हैं. उनकी जिंदगी के साथ खिलवाड़ हो रहा है. उन्हें जिहाद का पाठ पढ़ाते हो तो मैं कहूंगा कि पहले तुम जिहाद करो तब हमारे बच्चों को रह शिक्षा दो. बड़ी-बड़ी कुर्सिरों पर बैठकर जिहाद सिखाते हैं, लीडर बनते हैं. स्टोन पेल्टिंग में शामिल 9000 से ज्रादा बच्चों के नाम शामिल थे, मैंने कहा कि जो छोटे बच्चे हैं उन्होंने किसी के बहकावे में आकर स्टोन पेल्टिंग की है उन्हें बरी करें. उन्हें जेल में मत डालो.‘ न्होंने आगे कहा कि कश्मीर की समस्रा का हम स्थाई समाधान चाहते हैं. इसलिए हमने बातचीत के लिए दिनेश्‍वर शर्मा को स्पेशल रिप्रेजेंटेटिव तर किरा है. कश्मीर हमारा था, है और रहेगा कोई ताकत उसे हमसे अलग नहीं कर सकती।