Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

इसी नाम से बराक घाटी (कछाड़, असम) के हिंदी भाषी जाने जाते हैं । क्या आपको इस शब्द का अर्थ पता है ?अगर नहीं तो मै सत्यजीत सिंह आप सभी के लिए इतिहास से इसका अर्थ ढूंढ कर लाया हूँ , जरूर पढ़िए...

 

जब अंग्रेज भारत आके असम में चाय बागान बनाने को सोचे तो उसके लिए उनको मजदूर चाहिए थे जो कठोर परिश्रम कर सकें । इस काम के लिए एक अंग्रेज अधिकारी ने कोलकाता के बंगाली सज्जन को पक‹डा और कहा मुझे उपरोक्त काम के लिए लोग चाहिए आप मुझे सहायता कीजिये। उसके बाद वह व्यक्ति अंग्रेज को लेकर बिहार  गया और एक सज्जन से मिला और सज्जन को सारी बातें बताई। सज्जन बोले आपको मजदुर मिल जायेंगे । फिर उस अंग्रेज ने पूछा आप के यहां के मजदुर क्या क्या कर सकते हैं ? जबाब में सज्जन बोले ङ्क‘कुल्हिङ्क‘ (इसका अर्थ है हर काम करने में पारदर्र्शी, हर काम में निपुण ) अंग्रेज अधिकारी ठहरा अंग्रेज हिन्दी शब्दों का उच्चारण सही-सही नहीं कर पाते थे इसलिए उस अंग्रेज ने कुल्हि शब्द को कुली कहकर दोहराया क्योंकि वह उच्चारण नहीं कर पा रहा था ।

तो मित्रों कुल्हि शब्द का उत्पत्ति यहीं से हुआ इसका अर्थ है ‘सबकुछ‘ यानि हर काम को करने में निपुण व्यक्ति, जो की हम हैं और इस बात को हमें साबित कर दिखानी है । और इस अर्थ को गैर हिंदीभाषियो को भी समझाना है जो हिन भावना से अपनी कुंठा मिटाने के लिए हमें कुली बुलाते है। धन्यवाद, सत्यजीत सिंह. दुल्लभचेरा, करीमगंज, असम ।