Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

Hot News:

Latest News

सामूहिक दुष्कर्म के बाद युवती की हत्या, पे‹ड पर लटकाया शव

कार्बी आंग्लांग, १२ मई (हि.स.)। असम के पहाड़ी जिले कार्बी आंग्लांग के बैठालांग्सू थानांतर्गत डालीमबारी पुलिस चौकी इलाके में २१ वर्षीय युवती के साथ संदिग्ध सात युवकों ने दुष्कर्म करने के बाद उसके शव को पेड़ से लटकाकर खुदकुशी का रूप दिया। युवती के परिजनों ने डालीमबारी थाने में इस संबंध में एक प्राथमिकी दर्ज कराई है। हालांकि पुलिस आरोपियों को अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हुई है। युवती का शव पुलिस ने गुरुवार को पेड़ से लटकते हुए अवस्था में बरामद किया था, जिसे पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल में भेज दिया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि बुधवार की रात्रि को युवती अपने प्रेमी के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम देखकर घर लौट रही थी। उसके साथ अन्य एक प्रेमी जोड़ा भी था। बीच रास्ते में एक स्कूल के पास चारों रुककर बातचीत रहे थे, इसी बीच सात सदस्यीय युवकों के एक दल ने वहां पहुंचकर चारों के साथ मार पीट की। एक प्रेमी जोड़ा मौके से फरार हो गया। जबकि मृतक युवती के प्रेमी की भी युवकों ने बुरी तरह से पिटाई की, जिसके चलते वह भी जान बचाने के लिए वहां से भाग गया।    अकेली युवती के साथ सातों युवकों ने जबरदस्ती की। बाद में उसकी हत्या कर उसके शव को टिंगखंग टेरेन गांव के शिलनी इलाके में पेड़ से लटका दिया। शुक्रवार को युवकों ने युवती के घर पहुंचकर बताया कि उसकी युवती के साथ उसका प्रेमी गलत हरकत कर रहा था, जिसके चलते उन्होंने उसे पकड़ लिया है। युवती के घर वालों के सामने भी प्रेमी की जमकर पिटाई करने के बाद उसे वहीं छोडक़र सातों आरोपी फरार हो गए। परिजनों की तहरीर पर पुलिस जांच में जुट गई। वहीं शुक्रवार को ही युवती के शव को गांव वालों की सहायता से बरामद कर लिया। जांच में सच्चाई के सामने आने के बाद से आरोपी सातों युवक फरार हो गए हैं। इस घटना को लेकर लोगों में भारी रोष व्याप्त है। ज्ञात हो कि घटास्थल काफी पिछड़ा हुआ इलाका है।

कृषि विभाग घोटालाःआईएएस अधिकारी से सीआईडी ने की पूछताछ


गुवाहाटी, १२ मई (हि.स.)। असम में सत्ता बदलने के बाद से लगातार भ्रष्टाचार व घूसखोरी में लिप्त छोटे से लेकर बड़े अधिकारियों की गिरफ्तारी हो रही है। इसी कड़ी में एक नया नाम एक आईएएस महिला अधिकारी का भी जुड़ गया है। कृषि विभाग में हुए ७०० करोड़ रुपए के घोटाले की सीआईडी जांच कर रही है। इस मामले में अब तक पांच कृषि विभाग के अभियंता गिरफ्तार होकर जेल पहुंच चुके हैं।सीआईडी की टीम शुक्रवार को जनता भवन (असम सचिवालय) में सचिवालय प्रशासन विभाग की सचिव के पद पर तैनात आईएएस महिला अधिकारी पूरबी सोनोवाल से कृषि विभाग में हुए ७०० करोड़ रुपए के घोटाले के संबध में काफी लंबी पूछताछ की। ज्ञात हो कि जिस समय कृषि विभाग में घोटाला हुआ था उस समय पूरबी कृषि विभाग की सचिव के पद पर तैनात थी। हालांकि सीआईडी ने उनसे किन सवालों का जवाब मांगा इसका ब्यौरा नहीं मिल पाया है, बावजूद इसके प्रशासनिक अधिकारियों में सीआईडी की तत्परता से हडक़ंप मचा हुआ है।

एक कदम कैशलेश इकोनामीङ्क पर कार्यशाला सम्पन्न


प्रे.सं.शिलचर, १२ मई : प्रधानमंत्री की स्वप्निल योजना डिजीटल इंडिया के अन्तर्गत ‘एक कदम कैशलेश इकोनामी की ओरङ्क पर एक दिवसीय कार्यशाला आज राजीव भवन में सम्पन्न हुई। छोटे व्यापारियों को (डिजिटल पेमेन्ट इनिसिएटिव) जागरुक करने के लिए आज सुबह ११.०० बजे से अपरान्ह २.३० बजे तक दो सत्रों में प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। प्रशिक्षण सत्र में स्टेट बैंक आफ इंडिया के रिलेशनशिप आफिसर वरुण जैन, बैंक आफ इण्डिया की कु. अंकिता qसह, पेटीएम के शाहिल आलम मजुमदार ने कैशलेश इकोनामी के फायदों के बारे में समझाया। डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, मोबाइल एप, आनलाइन पेमेन्ट आदि विषयों पर विस्तार से जानकारी प्रदान की गयी।
    उद्घाटन सत्र में राष्ट्रीय इलेक्ट्रानिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान गौहाटी (एनआईइएलआईटी) के निदेशक डॉ. के. बरुआ, इक्सटेन्शन सेण्टर शिलचर के अति. निदेशक, मानव कलिता, अतिरिक्त जिलाधिकारी रणदीप दाम, एमसी दास कालेज सोनाई के प्रधानाचार्य बहारुल इस्लाम लस्कर, हाफलांग गवर्मेन्ट कालेज के आसि. प्रोफेसर डॉ. शंकर नियोगी ने अपने-अपने वक्तव्य में उपस्थित प्रशिक्षणार्थियों को कैशलेश इकोनामी के प्रयोग की अपील की। कान्फिडरेशन आफ आल इंडिया टेडर्स (सीएआइटी) व भारत सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सहयोग से कार्यशाला का आयोजन किया गया। नैलिट गौहाटी के वैज्ञानिक पियुष श्रीवास्तव ने धन्यवाद ज्ञापन किया। वरिष्ठ तकनीकी सहायक आशीष दे मजुमदार व तकनीकी सहायक समीक गुप्ता ने आगन्तुकों का स्वागत किया। कार्यशाला के पश्चात प्रशिक्षणार्थियों के मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था भी की गयी थी।

A A A