Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

प्रेरणा प्रतिवेदन 5 दिसम्बरः गत 3 दिसम्बर को काछाड़ जिले की शिक्षाखण्ड में विश्‍व दिव्यांग दिवस के रूप में पालन किया गया।

शिलचर सदरघाटस्थित अभयाचरण भट्टाचार्य पाठशाला में विकलांगों के लिये निर्धारित ध्वजा फहराकर दिव्यांग दिवस का शुभारंभ हुआ।  दिव्यांग शिशु व उनके अभिभावकों को लेकर एक शोभायात्रा का आयोजन किया गया। इस दिन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व केन्द्रीय मंत्री कबीन्द्र पुरकायस्थ उपस्थित थे। इस उपलक्ष्य पर एक जागरूकता सभा का आयोजन किया गया। प्रदीप प्रज्ज्वलन के माध्यम से सभा का शुभांरभ मुख्य अतिथि कबीन्द्र पुरकायस्थ ने किया। मंच पर विशिष्ट अतिथि के रूप में वरिष्ठ पत्रकार अतीन दास, विशिष्ट समाज सेविका श्रीमती शेफाली भारती, स्कुल निरीक्षक नुरुल हक माझारभुइया, डीपीओ विद्युत देव चौधुरी, डीपीओ रानारंजन नाथ, डीपीओ सहीद अह्मद चौधुरी एवं डीपीओ कृपानु राय प्रमुख तौर पर उपस्थित थे। कार्यक्रम के आरंभ में शिलचर शिक्षाखण्ड के सार्विक शिक्षा व्यवस्था के रिर्सोस पर्सन श्रीमती झुमा भट्टाचार्य ने विश्‍व दिव्यांग दिवस के तात्पर्य के बारे में

कार्यक्रम के आरंभ में शिलचर शिक्षाखण्ड में सार्विक शिक्षा व्यवस्था के रिसोर्स पर्शन श्रीमती झुमा भट्टाचार्य ने विश्‍व विकलांग दिवस की तात्पर्य के बारे में जानकारी प्रदान किया। उन्होंने कहा कि दिव्यांग शिशुओं की शारीरिक, शैक्षिक, मानसिक तथा बौद्धिक विकास साधन का संकल्प ग्रहण करने के लिये सभी के प्रति आह्वान किया। विशिष्ट पत्रकार अतीन दास ने बृटिश शासित भारत के समाज व्यवस्था व शिक्षा व्यवस्था का परिवर्तन के संबंध में सुन्दररूप से व्याख्या किया एवं दूसरों के अपकार करने से बचने का महत्व दिया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में कबीन्द्र पुरकायस्थ ने कहा कि दिव्यांग व्यक्तियों के प्रति अपना दायित्व व कर्त्यव्य के सन्दर्भ में विशेष चर्चा किया एवं दिव्यांगजनों के लिये सरकार की प्रचेष्ठी व पदक्षेप के बारे में  सुन्दर रूप से सम्पन्न हुआ। सार्विक शिक्षा व्यवस्था के डीपीओ श्रीरानारंजन नाथ ने अपने वक्तव्य में 2016 से सरकार कुल 21 प्रकार की अक्षमताओं को दिव्यांग श्रेणी में दर्ज किया गया है। इसके अलावा गत वर्ष चूने गेय दिव्यांग शिशुओं की आगामी एक महीने के भीतर सहायता सामग्री वितरण किया जायेगा। सभा में अन्य लोगों में श्रीमती शेफाली भारती, श्रीनुरुल हक माझारभुईया, श्री कृपानु राय, डा. विद्युत देव चौधुरी जी उपस्थित थे। स्वर्गीय ब्रजेन्द्र भारतीय स्मृति के उद्दैश्य में श्रीमती शेफाली भारती ने 70 दिव्यांग बच्चों को कम्बल वितरण किया।