Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

प्रे.सं.शिलचर, 21 फरवरी ः आज राष्ट्रभाषा एवं चाय जनगोष्ठी उन्नयन मंच बड़खला के तरफ से बड़खला ब्लाक

आफिस पर धरना-प्रदर्शन किया गया। मंच द्वारा धरना के पश्‍चात मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन भी प्रभारी विडियो को प्रदान किया गया। धरना स्थल पर अपने वक्तव्य में मंच के मुख्य संयोजक दिलीप कुमार ने चाय जनगोष्ठी के पिछड़ेपन के लिए सरकारी उपेक्षा को जिम्मेदार के पिछड़ेपन के लिए सरकारी उपेक्षा को जिम्मेदार बताया। श्री कुमार ने कहा कि देश को आजाद हुए 70 साल हो गये किन्तु चाय श्रमिक आज भी दुर्दशा भोग रहे हैं। जिन्होंने असम को आबाद किया, वे आज भी गरीब, अशिक्षित और पिछड़े है। मंच के केन्द्रीय समिति के सदस्य युवा नेता संजीव राय ने कहा कि चाय श्रमिकों द्वारा उत्पादित चाय दिसपुर, दिल्ली पहुँच जाती है। उनकी आवाज नहीं पहुँचती। हम उनकी आवाज पहुँचाने के लिए 15 मार्च को शिलचर में महारैली करेंगे। यदि फिक्षर भी सरकार ने हमारी मांगे नहीं मानी तो हम जबरदस्त आंदोलन करेंगे। मंच के मार्गदर्शक दिलीप सिंह क्षत्रिय ने कहा कि चाय बागान में न तो शिक्षा, न ही स्वास्थ्य सेवाएँ सही तरीके से मिल रही हैं। हमारे समाज की तरफ सरकार ध्यान नहीं दे रही है। सभी वक्ताओं ने शिक्षा, रोजगार व निर्वाचन में 30% आरक्षण की मांग दुहरायी।

धरने में उपस्थित प्रमुख लोगों में हीरालाल भर, प्रदीप कुर्मी, संगीता कुर्मी, विष्णुपद भाक्ति, अंजन माल, राना राय, रितेश नुनिया, संगीता भर, गिरिधारी लाल साब, मायाजुल अली, निर्मल तेली, रुमी कर्मकार व बाबुल दुषाध आदि उपस्थित थे। प्रतिनिधियों ने बड़खला ब्लाक आफिस के बाहर भीतर धूल के अम्बार पर अफसोस प्रकट करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान का यहाँ रंचमात्र भी प्रभाव नहीं है। लोगों द्वारा ब्लाक आफिस को बलद आफिस भी कहते हुए सुना गया।