Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

A A A

प्रे.सं.शिलचर, 16 अप्रैल शिलचर, ः हिन्दीभाषी समन्वय मंच जब तक हिन्दीभाषियों की मांगें पूर्ण नहीं होती तब तक अभियान जारी रखेगा।

उक्त वक्तव्य विगत 14 अप्रैल को समन्वय मंच के महासचिव दिलीप कुमार ने एक बैठक के दौरान कही। उन्होंने कहा कि राष्ट्रभाषा व चाय जनगोष्ठी उन्नयन मंच का गठऩ श्रमिक समाज के साथ ही गांव-बस्ती व शहर में रहने वाले हिन्दी भाषियों के अधिकारों को दिलाने के लिए किया गया है। उन्नयन मंच के बैनर तले सभी संगठनों के साथ हिन्दीभाषी समन्वय मंच भी शिक्षा, रोजगार व पंचायत चुनाव में 30% आरक्षण, हिन्दीभाषी व चाय श्रमिक उन्नयन परिषठ गठन, हिन्दी माध्यम के विद्यालयों को पुनः आरम्भ करना, आवश्यकतानुसार शिक्षकों की नियुक्ति और विद्यालयों की स्थाना, भूमि अतिक्रमण खाली कराना, चाय एवें पूर्व चाय श्रमिक समाज की छुटी हुई जातियों को तत्काल सर्वे कराके सूचीबद्ध करना, चाय उद्योग के उन्नति हेतु आवश्यक कदम उठाना, स्वास्थ्य सेवाओं पर ध्यान देना, आदि विषयों के लिए हमारा अभियान जारी रहेगा। इस विषय में उन्नयन मंच के केन्द्रीय समिति की बैठक में अगला निर्णय लिया जाएगा।

रूपनारायम राय ने सवाल उठाया कि सरकार ने हिन्दीभाषियों के लिए क्या किया? सुनील कुमार सिंह ने कहा कि सरकार ने उन्नयन मंच की मांग पर जिस प्रकार तत्परता दिखायी, उसके लिए वे धन्यवाद के पात्र हैं। शिवकुमार पासवान ने कहा कि आज जो कुछ हो रहा है, उसमें प्रेरणा भारती दैनिक की महत्वपूर्ण भूमिका है, इसके लिए उन्नति के लिए मंच को प्रयास करना चाहिए।

घनश्याम पाण्डेयन ने अपने वक्तव्य में कहा कि जो पहले सत्ता सुख भोग रहे थे, अब वंचित हैं। उन्हें हम पूरा अवसर दे रहे हैं, किन्तु वे श्रेय लेने की होड़ में लगे हैं। ऐसे लोगों को महत्व नहीं देना चाहिए। प्रमोद शर्मा ने कहा कि संगठन को मजबूत बनाने पर ध्यान देना चाहिए। सभाध्यक्ष कन्हैयालाल सिंगोदिया ने समापन वक्तव्य में कहा कि हिन्दीभाषी समन्वय मंच पुराना एवं बड़ा संगठन है। सभी लोगों को सक्रिय रुप से समाज के लिए काम करना चाहिए। हिन्दीभाषी समन्वय मंच का संविधान बनाने के लिए नौ सदस्यीय समिति गठित की गयी, जिसमें कन्हैयालाल सिंगोदिया, दिलीप कुमार, हरिनारायण वर्मा, डॉ. के.के. सिंह, घनश्याम पाण्डेय, युगलकिशोर त्रिपाठी, डॉ. रीता सिंह यादव, अमिताभ राय व दिवाकर राय का नाम शामिल हैं। (पूर्ण गठित समिति की तालिका पृष्ठ चार पर दिया गया है) 

सभा में हिन्दीभाषी समन्वय मंच की समिति का पुनर्गठन कि/या गया, जिसमें अध्यक्ष कन्हैयालाल सिंगोदिया, महासचिव दिलीप कुमार व कोषाध्यक्ष रामनारायण नुनिया को बनाया गया। मुलचंद वैद को मुख्य संरक्षक घोषित करते हुए के संरक्षक मंडल का भी गठन किया गया। सभा के अन्त में दिवंगत अध्यक्ष दीपचंद शर्मा, महासचिव संजय यादव व सहसचिव राजेश ग्वाला की स्मृति में 2 मिनट का मौन पालन किया गया।