Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

Hot News:

Latest News

असीफा रेप कांड के विरुद्ध कांग्रेस का कैण्डिल मार्च

प्रे.सं.लखीपुर, 18 अप्रैल ः आज पैलापुल, बांसकांदी, बिनाकांदी आदि कई स्थानों पर लखीपुर विधानसभा में असीफा रेप काण्ड के विरुद्ध कैंडिल मार्च का आयोजन किया गया।

क्या हम इनसे कुछ सीख सकते हैं 

•दिलीप कुमार : बद्री बस्ती में एक उत्साही युवक है पप्पु चौबे।

अम्बेडकर जयन्ती के उपलक्ष्य में संस्कृति सुरभि द्वारा निःशुल्क चिकित्सा शिविर

प्रे.सं.शिलचर, 18 अप्रैल ः केशव स्मारक संस्कृति सुरभि द्वारा (4 अप्रैल को 127वें अम्बेडकर जयंती के उपलक्ष्य में श्यामपुर एलपी स्कूल चातला में एक दिवसीय निःशुल्क एलोपैथिक चिकित्सा शिविर आयोजित किया गया।

A A A

गुवाहाटी (समाचार एजेंसी)ः मुख्य विपक्षी कांग्रेस और कुछ अन्य संगठनों के विरोध के बाद भारत के महापंजीयक ने ड्राफ्ट एनआरसी प्रिंटेड फार्म में ही प्रकाशित करने का निर्णय लिया है। विधान सभा में नेता विरोधी दल देवब्रत सइकिया ने इस निर्णय का स्वागत किया है।

इसके पहले प्रदेश कांग्रेस ने ड्राफ्ट एनआरसी सूची हाथ से लिखकर तैयार करने की घोषणा का प्रबल विरोध किया था।  देर रात नेता विरोधी दल देवब्रत सइकिया  ने बताया कि आरजीआई ने ड्राफ्ट एनआरसी मुद्रित रूप में ही प्रकाशित करने की उनकी मांग स्वीकार कर ली है। मालूम हो कि सुप्रीम स्वीकार कर ली है। मालूम हो कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद दो करोड़ 38 लाख लोगों के दस्तावेजों के पुुष्टिकरण के लिए राज्य की सारी मशीनरी लगा दी गई है। सारा काम तय समय के अंदर पूरा करने का हवाला दे एनआरसी सचिवालय ने हस्तलिखित ड्राफ्ट एनआरसी तैयार करने का संकेत दिया था। प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष व मीडिया विभाग के प्रमुख प्रद्युत बरदलै के मुताबिक वर्ष 1951 में पहली बार राज्य में तैयार राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) हात से ही लिखकर प्रकाशित की गई थी तब और अब में तकनीकी स्तर पर जमीन-आसमान का अतंर आ चुका है। दो करोड़ से अधिक लोगों की एनआरसी सूची हाथ से लिखकर तैयार करने की बात अत्यंत हास्यास्पद है। यह समस्या को हल करने की जगह और अधिक जटिल ही करेगा। एपीसीसी मुख्यालय में सोमवार को पत्रकारों से मुलाकात में बरदलै ने हिन्दूवादी नेता देवतनु भट्टाचार्य के भड़काऊ भाषण को लेकर गहरी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को देवतनु के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिए। बरदलै के मुताबिक देवतनु का बयान जमीयत मुखिया मौलाना अरशद मदनी के भाषण से दस गुना अधिक सांप्रदायिक था। ऐसे में उन्हें तत्काल गिरफ्तार किया जाना चाहिए। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री के शब्दों में आरएसएस ने देवतनु का शिखंडी के रूप में इस्तेमाल किया है। पूर्व मंत्री ने सियांग नदी को चीन की ओर से प्रदूषित किए जाने के मामले पर भी गहरी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि सियांग नदी के कीचड़ युक्त पानी को लेकर उनकी पार्टी काफी उद्विग्र है। लेकिन नमामि ब्रह्मपुत्र मनाने वाली सरकार कतई उद्विग्न नहीं है। नहीं है। चीन की ओर से पिछले दो साल से संधि के मुताबिक भारत सरकार से हाइड्रोलाँजिकल डाटा साझा नहीं किए जाने को लेकर भी काफी चिंता जताई