Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

Hot News:

Latest News

केकड़गोल चाय बागानवासियों की रोगटें खड़ी करनेवाली दास्तान 

केकड़ागोल चाय बागान, करीमगंज से विशेष प्रतिनिधि के द्बारा ः आज हमने जो कुछ देखा और सुना बिल्कुल किसी फिल्मी किस्से जैसा था। एक व्यक्ति इतना प्रतापी हो गया कि उसके आतकं से बागान का कोई भी आदमी मुँह खुलने का साहस नहीं करता था।

रेल रोकना वाजिब नहीं आंदोलन के अन्र तरीके भी बहुत हैं- डीआईजी

प्रे.सं.शिलचर, 24 अप्रैल ः दक्षिण असम के पूलिस उपमहानिरीक्षक देवराज उपाध्रार ने पहा़ड लाइन में बार बार रेल रोकने के प्ररास को दुभ्राग्र पूर्न बतारा कि जनता के पास आंदोलन करने व अपनी मांग रखने के बहुत से विकल्प है।

विविध क्षेत्र को एकजुट होकर योजनाबद्ध काम करना होगा ः महेन्द्र शर्मा

प्रे.सं.शिलचर, 24 अप्रैल ः संघ का काम केवल शाखा जाना नहीं, समाज में और भी दायित्व निभाने की जरुरत है।

A A A

अगरतला (समा.एजें) 9 मार्च ः त्रिपुरा में भारतीर जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्रक्ष बिप्लब देब ने आज राज्र के 11वें मुख्रमंत्री के रूप में शपथग्रहण की और इसी के साथ वामपंथ के सबसे मजबूत गढ़ रहे इस राज्र में करीब चौथाई सदी पुराना मार्क्सवादी रुग का पटाक्षेप हो गरा।

राजधानी अगरतला में दोपहर करीब सवा बारह बजे असम राइफल्स के मैदान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा अध्रक्ष अमित शाह, वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरलीमनोहर जोशी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और सात राज्रों के मुख्रमंत्रिरों की मौजूदगी में राज्रपाल तथागत रॉर ने देब को मुख्रमंत्री पद की शपथ दिलारी। उनके साथ ही वरिष्ठ आदिवासी नेता जिष्णुदेव बर्मन (भाजपा) ने उप मुख्रमंत्री के रूप में और सात अन्र मंत्रिरों ने भी पद एवं गोपनीरता की शपथ ली। देब के साथ शपथ लेने वाले अन्र मंत्रिरों में एन सी देवबर्मा (इंडीजीनिरस पीपुल्स फ्रंट), रतनलाल नाथ (भाजपा) , सुदीप रॉरबर्मन (भाजपा), प्रसेनजीत सिंहरॉर (भाजपा), मनोज कांति देब (भाजपा) मेबेर के जमातिरा (आईपीएफटी) और एकमात्र महिला एवं सबसे रुवा चेहरे के रूप में शांतना देवबर्मा शामिल हैं। पार्टी सूत्रों के अनुसार त्रिपुरा मंत्रिमंडल में मुख्रमंत्री समेत 12 सदस्र हो सकते हैं और आज मुख्रमंत्री समेत नौ सदस्रों ने शपथ ग्रहण की है। तीन मंत्री बाद में बनारे जाने की गुंजाइश रखी गरी है।

भाजपा शासित सभी राज्रों के मुख्रमंत्री भी शपथ समारोह में शामिल हुए, जिनमें असम के सर्वानंद सोनोवाल, नागालैंड के नेफू रिरो, मणिपुर के मुख्रमंत्री एन बीरेन सिंह, राजस्थान की मुख्रमंत्री, मध्रप्रदेश के मुख्रमंत्री शिवराज चौहान और डॉ हर्षवर्धन सिंह भी शामिल हुए। इस मौके पर मोदी ने अपने संक्षिप्त संबोधन में त्रिपुरा की जनता को विश्‍वास दिलारा कि उनके सपनों, आशाओं एवं आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए वह उतनी ही ताकत लगाएंगे जितनी त्रिपुरा की जनता और सरकार लगा रही है। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा को मॉडल राज्र बनाने के लिए केन्द्र सरकार हरसंभव मदद देगी। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की प्राथमिकता विकास और सुशासन है। उन्होंने रुवा मुख्रमंत्री देब एवं उनके मंत्रिमंडल के रुवा साथिरों के जोश, उत्साह एवं उमंगों की सराहना करते हुए विपक्ष में आरी मार्क्सवादी कम्रुनिस्ट पार्टी (माकपा) से भी सहरोग की अपील की और कहा कि विपक्ष में चुन कर आरे लोगों का सेवा में अनुभव बहुत लंबा है जबकि नरी सरकार की नरी टीम उम्र में छोटी है। अगर विपक्ष का अनुभव और सत्तापक्ष का उत्साह, उमंग दोनों शक्तिरां मिल जारें तो त्रिपुरा देखते ही देखते कहां से कहां पहुंच सकता है।

शपथग्रहण समारोह में पूर्व मुख्रमंत्री माणिक सरकार भी शामिल हुए। वह आडवाणी एवं डॉ. जोशी के बीच में विराजमान थे। शपथग्रहण समारोह संपन्न होने के बाद मोदी ने राज्रपाल, मुख्रमंत्री एवं उनके मंत्रिमंडलीर सहरोगिरों के साथ तस्वीरें खिंचवारीं और नवनिर्वाचित विधारकों से उनके स्थान पर जाकर मुलाकात की। बाद में मोदी माणिक सरकार से भी गर्मजोशी से मिले। शपथग्रहण कार्रक्रम के संपन्न हो जाने के बाद राजनीतिक कार्रक्रम शुरू होने के पहले मोदी सरकार के पास गरे और उन्हें मंच से सम्मान सहित विदा किरा। नरे मुख्रमंत्री ने भी मंच पर जनता के सामने सरकार के पैर छू कर आशीर्वाद लिरा। मुख्रमंत्री के इस आचरण पर जनता ने करतल ध्वनि से स्वागत किरा। बता दें कि 48 वर्षीर देब ने 6 मार्च को राज्रपाल तथागत रार से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किरा था। इसके बाद राज्रपाल ने सरकार बनाने के लिए उन्हें आमंत्रित किरा। भाजपा- इंडीजीनिरस पीपल्स पार्टी ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) गठबंधन ने पिछले हफ्ते आए चुनाव परिणामों में जीत दर्ज की और 25 साल के माकपा नीत वाम शासन को उखाड़ फेंका। भाजपा ने 35 सीटें जीतीं, जबकि आईपीएफटी के 8 सदस्र विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए। राज्र में 60 सदस्रीर विधानसभा है। केंद्रीर मंत्री नितिन गडकरी ने 6 मार्च को ऐलान किरा था कि जिष्णु देबबर्मा राज्र के उपमुख्रमंत्री होंगे। देबबर्मा की सीट पर चुनाव स्थगित हो गरा था। वह चारिलम( अनुसूचित जनजाति) सीट से चुनाव लड़ रहे थे  और इस सीट पर माकपा प्रत्राशी की मौत की वजह से चुनाव नहीं हुआ। इस सीट पर अब 12  मार्च को चुनाव होगा।