Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

Hot News:

Latest News

एपीएससी कार्यालय में पुलिस ने फिर चलाया अभियान, १४० कॉपियां जब्त

गुवाहाटी, ०७ जून (हि.स.)। असम पब्लिक सर्विस कमिशन (एपीएससी) में कैस फार जॉब मामले की जांच जोरशोर से चल रही है।

प्रदेश महिला कांग्रेस ने महिला सुरक्षा को लेकर किया प्रदर्शन

गुवाहाटी, ०७ जून (हि.स.)। असम की राजधानी गुवाहाटी के एबीसी इलाके में स्थित असम प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन के सामने महिला कांग्रेस कमेटी की सदस्याओं ने बुधवार को केंद्र और राज्य सरकार के विरूद्ध जमकर नारेबाजी की।

कार्र्बी आंग्लांग स्वायत्तशासी परिषद चुनाव में कांग्रेस ने तेज किया प्रचार

कार्बी आंग्लांग, ०७ जून (हि.स.)। असम प्रदेश कांग्रेस पार्टी ने भी कार्बी आंग्लांग स्वायत्तशासी परिषद चुनाव में अपने उम्मीदवारों के समर्थन में चुनाव प्रचार तेज किया है।

A A A

लखनऊ (समा.एजें) २५ अक्टूबर : सपा के संग्राम के बीच रामगोपाल यादव ने एक बयान देकर नई चिंगारी को हवा दे दी है. रामगोपाल ने कहा कि सपा की पहचान गुंडा पार्टी की थी.

अखिलेश ने इस पहचान को बदला. उनके बिना सपा नहीं है. देखते रहिए कैसे माहौल बदलता है. रामगोपाल यादव ने आगे कहा कि नेताजी अखिलेश के धैर्य की परीक्षा ले रहे हैं, लेकिन अखिलेश ने कभी अपना आपा नहीं खोया.  उन्होंने आगे कहा कि कुछ लोग अखिलेश की कामयाबी से जलते हैं. इससे पूर्व पार्टी से ६ साल के लिए निष्कासित रामगोपाल यादव ने दो टूक में कह दिया है कि वह मुलायम से नहीं मिलेंगे और वह अखिलेश यादव के लिए कुछ भी करेंगे. रामगोपाल यादव ने सोमवार को अखिलेश यादव के साथ मिलकर नई पार्टी के गठन से जुड़ी अटकलों को खारिज कर दिया. उन्होंने हालांकि अगले चुनाव के बाद अपने भतीजे को एक बार फिर मुख्यमंत्री बनाने की दिशा में काम करने की प्रतिबद्धता जताई. उन्होंने यह भी साफ किया कि वह राज्यसभा नहीं छोड़ेंगे.

समाजवादी पार्टी में मचे घमासान पर अखिलेश यादव ने आज तक के साथ खास बातचीत में कहा कि वे अभी चुनावों पर फोकस कर रहे हैं. अखिलेश ने कहा कि मैं जल्द ही चुनाव की तैयारियां शुरू करूंगा. अखिलेश ने कहा कि उनके लिए उत्तर प्रदेश का हित सर्र्वाेपरी है और जो बातें उनके वश में नहीं हैं उसकी उन्हें चिंता नहीं है. अखिलेश ने कहा कि ५ नवंबर को पार्टी की रजत जयंती समारोह में वे हिस्सा लेंगे. समाजवादी पार्टी में मचे घमासान पर मंगलवार को फिर मुलायम सिंह ने दो टूक बात की. सरकार बेटे अखिलेश यादव चलाएंगे और शिवपाल और अमर सिंह पार्टी से निकाले नहीं जाएंगे. मुलायम सिंह यादव ने यह बात साफ कर दी कि पार्टी और परिवार में मचे घमासान के बावजूद वह अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री पद से हटाने की नहीं सोच रहे हैं.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बारे में पूछे जाने पर मुलायम सिंह यादव ने कहा कि यह बात सही है कि समाजवादी पार्टी को बहुमत उनके नाम पर मिला था, लेकिन अब दो महीने के लिए वह मुख्यमंत्री बनने की नहीं सोच सकते हैं. लेकिन मुलायम सिंह ने यह कहकर अखिलेश यादव के समर्थकों की चिंता बढ़ा दी कि मुख्यमंत्री कौन होगा इसका फैसला जीत कर आए विधायक करेंगे. अखिलेश यादव के समर्थक चाहते हैं कि समाजवादी पार्टी उन्हें साफ तौर पर मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करे. मंगलवार को मुलायम सिंह ने कहा कि रामगोपाल की बातों का उनके लिए अब कोई महत्व नहीं है. मुलायम सिंह की प्रेस कॉन्फ्रेंस में शिवपाल यादव के अलावा वह तीनों मंत्री भी मौजूद थे जिन्हें हाल में ही अखिलेश यादव ने अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया. इन मंत्रियों को बगल में बैठा साफ इशारा था कि मुलायम सिंह चाहते हैं कि सरकार में उनकी वापसी हो. लेकिन इस बारे में पूछे जाने पर मुलायम सिंह ने कहा यह फैसला उन्होंने मुख्यमंत्री पर छोड़ दिया है. मंगलवार सुबह मीडिया से बातचीत में शिवपाल ने कहा कि पार्टी में सबकुछ ठीक है. जो भी नेताजी कहेंगे उसका पालन होगा. सरकार में वापसी के सवाल पर शिवपाल ने कहा कि जो भी नेताजी कहेंगे मैं उसका पालन करूंगा. इस बीच रामगोपाल यादव ने एक बार फिर अपने भाई मुलायम सिंह यादव पर हमला बोला है. उन्होंने कहा, ङ्कमुलायम सिंह यादव को अखिलेश की लोकप्रियता से जलन हो रही है. हर बाप चाहता है कि उसका बेटा आगे बढ़े लेकिन यहां ऐसा नहीं हो रहा.ङ्क इससे पहले सोमवार देर शाम अखिलेश यादव ने अकेले जाकर मुलायम सिंह से उनके घर पर मुलाकात की. जबकि शिवपाल यादव सीएम अखिलेश के आवास पर करीब १ घंटे तक इंतजार करते और फिर वापस लौट गए. मुलायम सिंह ने कहा कि २०१२ में बहुमत मेरे नाम पर मिला.