Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

Hot News:

Latest News

एपीएससी कार्यालय में पुलिस ने फिर चलाया अभियान, १४० कॉपियां जब्त

गुवाहाटी, ०७ जून (हि.स.)। असम पब्लिक सर्विस कमिशन (एपीएससी) में कैस फार जॉब मामले की जांच जोरशोर से चल रही है।

प्रदेश महिला कांग्रेस ने महिला सुरक्षा को लेकर किया प्रदर्शन

गुवाहाटी, ०७ जून (हि.स.)। असम की राजधानी गुवाहाटी के एबीसी इलाके में स्थित असम प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन के सामने महिला कांग्रेस कमेटी की सदस्याओं ने बुधवार को केंद्र और राज्य सरकार के विरूद्ध जमकर नारेबाजी की।

कार्र्बी आंग्लांग स्वायत्तशासी परिषद चुनाव में कांग्रेस ने तेज किया प्रचार

कार्बी आंग्लांग, ०७ जून (हि.स.)। असम प्रदेश कांग्रेस पार्टी ने भी कार्बी आंग्लांग स्वायत्तशासी परिषद चुनाव में अपने उम्मीदवारों के समर्थन में चुनाव प्रचार तेज किया है।

A A A

पटना (एजें), २ दिसंबर : बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार ने राज्यभर के सरकारी कर्मचारियों को महंगाई भत्ते में सात फीसदी बढ़ोत्तरी की है.

 माना यह जा रहा है कि बिहार में सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने में लगने वाले कुछ और समय की वजह से सरकार ने फिलहाल डीए में सात फीसदी की वृद्धि कर महंगाई से राहत देने का प्रयास किया है. इस बाबत बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुआई में हुई राज्य कैबिनेट की आपात बैठक में निर्णय किया गया है. सरकार के द्वारा दी गयी मंजूरी के बाद राज्यकर्मियों को बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता एक जुलाई, २०१६ से दिया जायेगा. इस निर्णय से राज्य के चार लाख कर्मियों और तीन लाख पेंशनभोगियों को लाभ मिलेगा. इससे राज्य सरकार के खजाने पर सालाना ५६५ करोड़ रुपये का बोझ बढ़ेगा. राज्यकर्मियों को अब तक १२५% महंगाई भत्ता मिल रहा था, जो अब बढ़ कर १३२% हो जायेगा. इसके अलावा कैबिनेट  ने दिल्ली स्थित बिहार भवन और बिहार निवास के किराये में बढ़ोतरी का फैसला लिया है. अब तक इस दोनों भवनों में सरकारी कार्य के सिलसिले में एक दिन ठहरने पर १६ रुपये देने पड़ते थे.  अब इसके लिए २५० रुपये देने होंगे. गैर सरकारी कार्य के लिए अब प्रतिदिन ५० की जगह ५०० रुपये देने पड़ेंगे. इसी प्रकार गैर सरकारी आदमी को २५० की जगह १००० रुपये प्रतिदिन की दर से किराया देना पड़ेगा. तय समय पर कमरा नहीं छोड़ने पर दोगुना राशि चुकानी होगी. इसके पहले १९९७  में इन दोनों का किराया बढ़ाया गया था. कैबिनेट की बैठक में २४ एजेंडों को मंजूरी दी गयी.