Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

Hot News:

Latest News

जियो फोन बुकिंग: एसएमएस से ऐसे प्री बुक करें जिओ फोन

नईदिल्ली, (समा.एजें) १७ अगस्त : रिलायंस जियो का फ्री फोन सितंबर के पहले सप्ताह में आम लोगों के हाथ में होगा। इस फोन की बीटा टेस्टिंग १५ अगस्त से शुरू हो गई है। इस फोन को पहले आओ पहले पाओ की तर्ज पर दिया जाएगा।

सडक़ों पर नमाज नहीं रोक सकता, तो थानों में जन्माष्टमी क्यों रोकूं : योगी  

लखनऊ, (समा.एजें) १७ अगस्त : उत्तर प्रदेश के थानों में जन्माष्टमी उत्सव को लेकर राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ा बयान दिया है.

एनडीआरएफ का बचाव एवं राहत अभियान जारी

गुवाहाटी, १७ अगस्त (हि.स.)। असम में गत एक सप्ताह से लगातार हो रही बरसात के कारण राज्य के २५ जिले सर्वधिक प्रभावित है। एनडीआरएफ ने इस बार भी आपदा पर बचाव कार्यों के लिए खोजी दलों को पहले से तैयार रखा था।

A A A

नई दिल्ली (समा.एजें) १० जनवरी :. उच्चतम न्यायालय ने केंद्र सरकार को देश भर के गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) का ऑडिट कराने का निर्देश दिया है.

मुख्य न्यायाधीश जगदीश सिंह केहर की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने याचिकाकर्ताओं में से एक मनोहर लाल शर्मा और एटर्नी जनरल मुकुल रोहतगी की विस्तृत दलीलें सुनने के बाद केंद्र सरकार को देश भर के एनजीओ का ऑडिट कराने का निर्देश दिया. मामले की अगली सुनवाई ५ अप्रैल को होगी. याचिकाकर्ता शर्मा ने कहा कि देश भर के ३२ लाख गैर सरकारी संगठनों में से केवल ३ लाख संगठन बैलेंस शीट फाइल करते हैं.  

उच्चतम न्यायालय ने स्पष्ट किया कि जो एनजीओ अपनी बैलेंस शीट प्रस्तुत नहीं करते हैं और सार्वजनिक धन का दुरुपयोग करते हैं, ऐसे एनजीओ के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. उसने केंद्र सरकार को ऐसे एनजीओ के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया. न्यायालय ने सुनवाई के दौरान एनजीओ को मिल रहे फंड पर नजर रखने के लिए समुचित तंत्र विकसित नहीं करने के लिए केंद्र सरकार की भी खिंचाई की. उसने ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव को दोपहर बाद २ बजे तक रिकॉर्ड पेश करने का निर्देश दिया. केंद्रीय जांच ब्यूरो ने न्यायालय को अपने जवाब में कहा कि २९९९६२३ एनजीओ में से महज २९०७८७ वार्षिक बैलेंस शीट दाखिल करते हैं. इस पर न्यायालय ने कहा कि सरकार एनजीओ के लिए प्रतिवर्ष बड़ी राशि जारी करती है और यह संभव नहीं है कि इसका कोई रिकॉर्ड नहीं हो.