Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

Hot News:

Latest News

असीफा रेप कांड के विरुद्ध कांग्रेस का कैण्डिल मार्च

प्रे.सं.लखीपुर, 18 अप्रैल ः आज पैलापुल, बांसकांदी, बिनाकांदी आदि कई स्थानों पर लखीपुर विधानसभा में असीफा रेप काण्ड के विरुद्ध कैंडिल मार्च का आयोजन किया गया।

क्या हम इनसे कुछ सीख सकते हैं 

•दिलीप कुमार : बद्री बस्ती में एक उत्साही युवक है पप्पु चौबे।

अम्बेडकर जयन्ती के उपलक्ष्य में संस्कृति सुरभि द्वारा निःशुल्क चिकित्सा शिविर

प्रे.सं.शिलचर, 18 अप्रैल ः केशव स्मारक संस्कृति सुरभि द्वारा (4 अप्रैल को 127वें अम्बेडकर जयंती के उपलक्ष्य में श्यामपुर एलपी स्कूल चातला में एक दिवसीय निःशुल्क एलोपैथिक चिकित्सा शिविर आयोजित किया गया।

A A A

नई दिल्ली (स‘ा.एजें) ९ नवंबर :. देश की राजधानी दिल्ली, एनसीआर में बढ़ चुके प्रदूषण को लेकर नेशनल ग्रीन टिड्ढब्यूनल ने दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार, पड़ोसी राज्यों को फटकार लगाई?है.

?गुरुवार को एनजीटी ने इन सभी को कहा कि उन्हें अस्पतालों में जाकर लोगों की हालत देखनी चाहिए कि कैसे उनकी जि़ंदगी से खिलवाड़ हो रहा है. एनजीटी ने कहा, ङ्कये सभी के लिए शर्म की बात है. सबको सोचना चाहिए कि हम अगली पीढ़ी को क्या दे रहे हैं.ङ्क एनजीटी ने कहा कि १० साल पुराने डीजल वाहनों और १५ साल पुराने पेटड्ढोल चलित वाहनों की एंटड्ढी बंद होनी चाहिए.?निर्माण?सामग्री ढोने वाले टड्ढकों का प्रवेश वर्जित किया जाए. एनजीटी ने आगे कहा कि खुले में हो रहे निर्माण कार्य को अब तक नहीं रोका गया है और अब जब ऐसे हालात पैदा हो गए है, तो सरकार स्थिति पर नियंत्रण का भरोसा दिला रही है. मामले से जुड़े सभी पक्षों को लताड़ते हुए एनजीटी ने कहा, ङ्कइस मामले से जुड़े सभी पक्षों के लिए यह शर्मनाक है कि वे इस समस्या को सिर्फ अगली पीढ़ी के लिए टालने में जुटे हैं.ङ्क टिड्ढब्यूनल ने कहा कि सभी संवैधानिक प्राधिकरण और कानूनी संस्थाएं अपना फर्ज निभाने में नाकाम रहे हैं. जहां तक प्रदूषण की बात है, यह सभी पक्षों की संयुक्त जिम्मेदारी है. एनजीटी ने कहा कि ऑड ईवन फार्मूले और कृत्रिम बारिश?करवाने के बारे में दिल्ली सरकार प्रयास करे.?

ङ्कआर्टिकल २१ और ४८ के मुताबिक सरकार का उत्तरदायित्व है कि वो देश के सभी नागरिकों को स्वच्छ और हितकर पर्यावरण मुहैया कराए. लोगों को स्वच्छ हवा नहीं मिल रही है, लोगों से उनके ङ्कजीवन का अधिकारङ्क छीना जा रहा है. एनजीटी ने आगे कहा, ङ्ककेंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़े बता रहे हैं कि दिल्ली और एनसीआर की हवा में मौत छिपी है. एनजीटी ने आदेश दिया है कि अगले आदेश तक कोई भी इंडस्टिड्ढयल एक्टविटी (औद्योगिक गतिविधि) ना हो.?उल्लेखनीय है कि दो तीन दिन से दिल्ली में स्मॉग के कारण लोगों को सांस लेने में भी दिक्कत हो रही है.