Offcanvas Info

Assign modules on offcanvas module position to make them visible in the sidebar.

Hot News:

Latest News

केकड़गोल चाय बागानवासियों की रोगटें खड़ी करनेवाली दास्तान 

केकड़ागोल चाय बागान, करीमगंज से विशेष प्रतिनिधि के द्बारा ः आज हमने जो कुछ देखा और सुना बिल्कुल किसी फिल्मी किस्से जैसा था। एक व्यक्ति इतना प्रतापी हो गया कि उसके आतकं से बागान का कोई भी आदमी मुँह खुलने का साहस नहीं करता था।

रेल रोकना वाजिब नहीं आंदोलन के अन्र तरीके भी बहुत हैं- डीआईजी

प्रे.सं.शिलचर, 24 अप्रैल ः दक्षिण असम के पूलिस उपमहानिरीक्षक देवराज उपाध्रार ने पहा़ड लाइन में बार बार रेल रोकने के प्ररास को दुभ्राग्र पूर्न बतारा कि जनता के पास आंदोलन करने व अपनी मांग रखने के बहुत से विकल्प है।

विविध क्षेत्र को एकजुट होकर योजनाबद्ध काम करना होगा ः महेन्द्र शर्मा

प्रे.सं.शिलचर, 24 अप्रैल ः संघ का काम केवल शाखा जाना नहीं, समाज में और भी दायित्व निभाने की जरुरत है।

A A A

नई दिल्ली (समा.एजें) 23 अप्रैल ः सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभिरोग के प्रस्ताव खारिज कर दिरा गरा है।

राज्रसभा के सभापति और उप राष्ट्रपति वेंकैरा नारडु ने महाभिरोग प्रस्ताव खारिज करते हुए कहा कि नोटिस में बताए गए पांच आरोपों में से कोई भी स्वीकार करने रोग्र नहीं है सारे आरोप कल्पना और संदेह पर आधारित है। सीजेआई पर लगाए गए आरोप न्रारपालिका की स्वतंत्रता को कमजोर करते हैं और रोस्टर बनाना सुप्रीम कोर्ट का अंदरूनी मामला है इसका सुप्रीम कोर्ट ही निपटारा करें। राज्रसभा के चेररमैन वेंकैरा नारडू के फैसले को कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी। पार्टी का मानना है कि चेररमैन ने जल्दबाजी में महाभिरोग प्रस्ताव को खारिज करने का फैसला लिरा है। आपको बता दें कि दो दिन पहले 7 राजनीतिक दलों के 71 सांसदों ने दस्तखत करके वेंकैरा नारडु को महाभिरोग प्रस्ताव का नोटिस दिरा था। राज्रसभा के चेररमैन वेंकैरा नारडू के फैसले को कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी। पार्टी का मानना है कि चेररमैन ने जल्दबाजी में महाभिरोग प्रस्ताव को खारिज करने का फैसला लिरा है। कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा है कि चेररमैन ने जांच ना होने देने के लिए जल्दबाजी में फैसला लिरा है। इससे ना सिर्फ लोगों का आत्मविश्‍वास घटा है बल्कि रे न्रारपालिका को कमजोर करने वाला है। इसलिए चेररमैन के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जाएगी।

उधर बीजेपी नेता सुब्रमणिरन स्वामी ने सीजेआई के खिलाफ महाभिरोग का प्रस्ताव खारिज किए जाने के फैसले का स्वागत किरा और कांग्रेस पर संविधान की अनदेखी करने का आरोप लगारा। जबकि कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने वेंकैरा नारडू के फैसले पर सवाल उठाए सुरजेवाला ने कहा कि 50 सांसदों के प्रस्ताव के साथ महाभिरोग पर संवैधानिक प्रक्रिरा शुरू हुई। राज्र सभा से सभापति प्रस्ताव पर फैसला नहीं ले सकते। उनके पास प्रस्ताव के रोग्रता तर करने से जुड़ा अधिकार नहीं है। रे लड़ाई वास्तव में लोकतंत्र खारिज करने वालों और लोकतंत्र बचाने वालों के बीच है। वहीं सीपीएम नेता सीताराम रेचुरी ने फैसले पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि रे जल्दबाजी में लिरा गरा फैसला है। इस बीच कांग्रेस अध्रक्ष राहुल गांधी आज दिल्ली के तालकटोरा स्टेडिरम से संविधान बचाओ अभिरान की शुरूआत की। इस अभिरान को दलित समुदार में पैठ बनाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। इस मौके पर कांग्रेस अध्रक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार, बीजेपी और आरएसएस पर जमकर हमला बोला। राहुल ने कहा कि बीजेपी और आरएसएस को संविधान के साथ छेड़छाड़ करने, उसे बर्बाद करने की इजाजत नहीं देंगे। इसके अलावा राहुल गांधी ने दलित समुदार के कथित उत्पीडऩ और एससी/एसटी एक्ट को कमजोर करने को लेकर भी बीजेपी पर निशाना साधा।

बीजेपी अध्रक्ष अमित शाह ने उल्टा कांग्रेस पर लोकतंत्र को कमजोर करने का आरोप लगारा है। उन्होंने ट्वीट किरा है कि लोकतांत्रिक संस्थाओं को कांग्रेस से खतरा है। कांग्रेस का संविधान बचाओ अभिरान एक धोखा है जो लोकतंत्र का शासन हटाकर वंशवाद का शासन लाना चाहता है। सीजेआई के खिलाफ कांग्रेस का महाभिरोग संस्थाओं को कमजोर करने की प्रवृति का हिस्सा है, जिन्हें सेना, एससी, ईसी, ईवीएम, आरबीआई पर भरोसा नहीं है वो अब लोकतंत्र को खतरे की बात कर रहे हैं। बीजेपी ने राहुल पर पलटवार किरा। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा का कहना है राहुल गांधी की बौखलाहट का कारण कुछ और नहीं बल्कि वंशवाद है वो किसी और को सत्ता में नहीं देख सकते